newsdog Facebook

H-1B वीजा होल्डर्स करते हैं हमारी इकोनॉमी को मजबूत: अमेरिकी सांसद

News Times 2018-01-10 17:12:13



New Delhi. अमेरिकी सांसद अमेरिका में प्रवासी भारतीयों के पक्ष में दिख रहे हैं, जो कि वहां रहकर नौकरी करते हैं। यहां सांसदों ने अमेरिका में भारतीयों की जमकर हिमायत की उन्होंने कहा कि H-1B वीजा होल्डर्स नई खोजें करते हैं। इससे अमेरिकी इकोनॉमी को मजबूत करने में मदद मिलती है। सांसदों ने डोनाल्ड ट्रम्प एडमिनिस्ट्रेशन के उस फैसले का समर्थन किया जिसमें कहा गया था कि ऐसा कोई प्रपोजल नहीं लाया जा रहा, जिसमें H-1B वीजा होल्डर्स को देश से जाने को कहा जाएगा। गौरतलब है कि मंगलवार को ट्रम्प एडमिनिस्ट्रेशन ने साफ कर दिया कि अमेरिका अपनी H-1B वीजा एक्सटेंशन पॉलिसी में कोई बदलाव नहीं कर रहा है। इसका मतलब यह हुआ कि ये साढ़े सात लाख इंडियन प्रोफेशनल्स आगे भी वहां नौकरियां करते रहेंगे और उन्हें भारत नहीं लौटना होगा।

यह भी पढ़ें- इंटरनेट पर ट्रेंड में आए युसुफ पठान

इस मामले पर इंडियन-अमेरिकन कॉकस की को-चेयरमैन  तुलसी गब्बार्ड ने कहा, "H-1B वीजा होल्डर्स उन कई लोगों में शामिल हैं जिनमें अमेरिका में छोटे बिजनेस भी हैं। ये लोग इनोवेशन लाने में माहिर हैं। उनकी कोशिशों से अमेरिका की इकोनॉमी मजबूत होगी।'' "ट्रम्प सरकार का H-1B होल्डर्स को लेकर किया गया फैसला देश को आगे ले जाने में कारगर साबित होगा।''

यह भी पढ़ें - अंतरिक्ष में नई उड़ान भरने के लिए तैयार भारत, ISRO एक साथ लॉन्च करेगा 31 सैटेलाइट

इस मामले में  एक अधिकारी का कहना है कि H-1B वीजा होल्डर्स से जुड़े मामलों में ऐसा कोई रेग्युलेटरी चेंज नहीं किया जा रहा है जिसकी वजह से ये वीजा रखने वालों को देश छोड़ना पड़े। अमेरिका में इससे जुड़ी एक कानून की धारा (104 C) है। हालांकि वीजा मामले में दूसरे बदलाव मुमकिन हैं। जिस बारे में USCIS  के एक अफसर जोनाथन विदिंगटन ने कहा- हम प्रेसिडेंट ट्रम्प की Buy American, Hire American पॉलिसी को लागू करने के लिए दूसरे बदलाव हो सकते हैं। इसमें इम्प्लॉईमेंट बेस्ड वीजा प्रोग्राम्स भी शामिल है।

यह भी पढ़ें- अखिलेश यादव ने भरी हुंकार

दरअसल  H-1B वीजा एक नॉन-इमिग्रेंट वीजा है। इसके तहत अमेरिकी कंपनियां विदेशी थ्योरिटिकल या टेक्निकल एक्सपर्ट्स को अपने यहां रख सकती हैं। इस  वीजा के तहत टेक्नोलॉजी कंपनियां हर साल हजारों इम्प्लॉइज की भर्ती करती हैं। USCIS जनरल कैटेगरी में 65 हजार फॉरेन इम्प्लॉइज और हायर एजुकेशन (मास्टर्स डिग्री या उससे ज्यादा) के लिए 20 हजार स्टूडेंट्स को एच-1बी वीजा जारी करता है। एक आंकड़े के मुताबिक  अप्रैल 2017 में यूएस सिटिजनशिप एंड इमिग्रेशन सर्विसेस (USCIS) ने 1 लाख 99 हजार H-1B पिटीशन रिसीव किये थे। 

Web Title: h1b visa holders drive innovation help build economy ( Hindi News From Newstimes)