newsdog Facebook

'तुम इतनी सुंदर हो तुम्हें लोन की क्या जरूरत?'

Eenadu India 2018-01-12 20:29:00
कैथल। पुरुष प्रधान देश में महिलाएं दशकों से छेड़छाड़, घरेलू उत्पीड़न, दुष्कर्म, बदसलूकी जैसी घटनाओं का शिकार होती आईं हैं और अभी भी ये सिलसिला ज्यों का त्यों है। आज भी महिलाओं को लोगों के बदतर बर्ताव का सामना करना पड़ता है।

क्लिक कर वीडियो देखें।


कैथल। पुरुष प्रधान देश में महिलाएं दशकों से छेड़छाड़, घरेलू उत्पीड़न, दुष्कर्म, बदसलूकी जैसी घटनाओं का शिकार होती आईं हैं और अभी भी ये सिलसिला ज्यों का त्यों है। आज भी महिलाओं को लोगों के बदतर बर्ताव का सामना करना पड़ता है।


ताजा मामला कैथल का है, जहां जिला मासिक कष्ट निवारण समिति की बैठक में गांव कैलरम की एक महिला ने बैंक मैनेजर पर आरोप लगाया कि जब वह गांव के बैंक से दो लाख रुपये का लोन लेने गई तो मैनेजर ने उससे दुर्व्यवहार किया।

महिला ने बताया कि बैंक मैनेजर ने उससे बदसलूकी करते हुए कहा कि 'तुम इतनी सुंदर हो तुम्हें लोन की क्या जरुरत है'। महिला ने मैनेजर द्वारा किए गए व्यवहार की शिकायत डीसी को देकर कार्रवाई की मांग की थी। जिसका मामला मासिक कष्ट निवारण समिति में रखा गया। जिसकी सुनाई के उपरांत समिति की अध्यक्षा ने जहां एक और बैंक मैनेजर के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर आदेश पारित किए वहीं बैंक को भी लोन देने के आदेश दिए।



पढे़ं-

गांव कैलरम की महिला ने डीसी को दी शिकायत में बताया कि उसका पति 15 साल से घर से बाहर रहता है और घर चलाने और बच्चों के पालन पोषण के लिए खर्च नहीं देता। रेडिमेड कपड़ों का काम शुरू करने के लिए उसे पीएमईजीपी के तहत दो लाख रुपये का लोन चाहिए था, लेकिन बैंक के 6-7 चक्कर लगाने के बाद भी लोन नहीं मिला तो उसने मैनेजर से कहा कि घर का निरीक्षण करने के बाद भी लोन क्यों नहीं मिल रहा? आरोप है कि इसके जवाब में मैनेजर ने दुर्व्यवहार करते हुए कमेंट किए। मैनेजर ने कहा कि तुम सुंदर हो लोन कि क्या जरूरत है ?

दरअसल, सरकार द्वारा बेरोजगार युवाओं को रोजगार देने के लिए चलाई गई कल्याणकारी ऋण योजनाओं में जिले के बैंकर्स की कोई रुचि नहीं हैं। योजना के अंतर्गत फार्म भरने के बाद बैंक लोन के लिए टालमटोल का रवैया अपनाए हुए हैं।

पढ़ें-

वहीं लोन लेने वाले जरुरमंदों का आरोप है कि बैंककर्मी लोन देने के नाम पर काफी परेशान करते हैं। प्रशासनिक सूत्रों ने बताया कि जिला प्रशासन के पास ऐसी शिकायतें पहुंची हैं, जिसमें केस रिजेक्ट करने के बड़े अजीब कारण बताए जा रहे हैं।