newsdog Facebook

‘बीजेपी का 65+ तो हमारा टारगेट 90

Janta Se Rishta 2018-01-13 11:56:20


जनता से रिश्ता / वेबडेस्क
प्रदेश सरकार के रवैये से आदिवासी वर्ग में निराशा: पुनिया
रायपुर। नयी टीम के साथ नये साल में चुनावी मिशन पर सरगुजा पहुंची कांग्रेस ने एक बार फिर जीत की हुंकार भरी है। कांग्रेस ने दावा किया है कि इस बार जीत कांग्रेस की होगी। अंबिकापुर में आज सुबह प्रेस कांफ्रेस में प्रदेश प्रभारी पीएल पुनिया,अरुण उरांव,कमलेश्वर पटेल, पीसीसी चीफ भूपेश बघेल, नेता प्रतिपक्ष टीएस सिंहदेव,चरणदास महंत,कार्यकारी अध्यक्ष शिव डहरिया,रामदयाल उइके,पूर्व सांसद करुणा शुक्ल,संचार विभाग अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी,विधायक गण चिंतामणि महाराज,वृहस्पत सिंह,अमरजीत भगत,पारस राजवाड़े,प्रीतम सिंह,खेलसाय सिंह,प्रेम साय सिंह मौजूद रहे। इस मौके पर पीएल पुनिया ने कहा कि जैसी सरकार छत्तीसगढ़ में चल रही है, उससे लोगों में खासकर आदिवासी वर्ग के लोगों में गहरी निराशा है। भू-राजस्व बिल के रोल-बैक करने के मुद्दे पर पुनिया ने कहा कि सरकार भू-राजस्व संहिता विधेयक को चुपके से पास कराकर कानून बनाकर आदिवासियों के हक पर डाका डालने की कोशिश हो रही थी..लेकिन भूपेश बघेल-टीएस सिंहदेव इसे जान गये और विरोध किया, कांग्रेस के दवाब के आगे सरकार को झुकना पड़ा। यह कांग्रेस पार्टी की जीत है। पुनिया ने कहा कि पूरे प्रदेश में कांग्रेस के पक्ष में जबरदस्त समर्थन है, परिवर्तन की लहर चल रही है और ये तय है कि प्रदेश में कांग्रेस की ही सरकार बनेगी। पुनिया ने सरकार निशाना साधते हुए कहा कि पूरी सरकार भ्रष्टाचार में फंसी हुई है। बीजेपी के मिशन 65+पर चुटकी लेते हुए पुनिया ने कहा कि बीजेपी का मिशन 65 है, लेकिन हमारी नजर 90 सीटों पर है। उन्होंने कहा कि संगठन में बदलाव का फ़ीडबैक उत्साहजनक है,सभी का संकल्प है जीत कर रहेंगे। प्रदेश प्रभारी ने कहा कि चुनाव से पहले कोई सीएम का चेहरा प्रोजेक्ट नहीं किया जायेगा, बल्कि चुनाव के बाद विधायक मुख्यमंत्री को चुनेंगे।
कांग्रेस कार्यकर्ताओं में उत्साह का हुआ संचार: प्रदेश कांग्रेस कमेटी के छत्तीसगढ़ प्रभारी पी.एल. पुनिया शुक्रवार को सूरजपुर में कार्यकर्ताओं की बैठक लेकर उन्हें चार्ज करने में लगे है। दरअसल बीते दिनों कांग्रेस भवन में जिलाध्यक्षों की बैठक में कांग्रेस के सभी जिला प्रभारियों और अध्यक्षों को बूथ स्तर पर कमेटी गठित करने का निर्देश दिया था।
जिसके बाद सभी जिला अध्यक्षों ने अपने जिलों और ब्लाकों में बैठकों का दौर शुरू किया और अब कांग्रेस बुथो में पहुंचकर बूथ कमेटी बनाने में लगी है।

जिसकी शुरुआत कांग्रेस ने अम्बिकापुर और सरगुजा क्षेत्र से की है।