newsdog Facebook

किसी कीमत पर घर नहीं टूटने दूंगा: दुष्यंत चौटाला

Uttam Hindu 2018-01-13 20:15:52

नारनौंद/हांसी(उत्तम हिन्दू न्यूज): ऐतिहासिक धरोहरों को बचाना तो अच्छी बात है लेकिन बसे-बसाए गांव को उजाडऩे की कीमत पर नहीं। यह बात इनेलो संसदीय दल के नेता व सांसद दुष्यंत चौटाला ने गांव राखी गढ़ी में धरना स्थल पर पहुंच कर कही। दुष्यंत चौटाला ने कहा कि बेशक सरकार ने सैकड़ों घरों को नोटिस जारी कर दिए हों परन्तु किसी कीमत पर एक भी घर को नहीं टूटने देंगे चाहे सरकार ऐड़ी चोटी का जोर लगा ले। उन्होंने कहा कि इनेलो ग्रामीणों के साथ खड़ी है और वो इस बारे में जो भी फैसला लेंगे पार्टी उनके संघर्ष में साथ रहेगी। उन्होंने यह भी कहा कि संघर्ष समिति 24 जनवरी को होने वाली दिशा की बैठक में अपने कागजात लेकर पहुंचे, पुरातत्व विभाग के अधिकारियों को भी इस बैठक में पहुंचने के निर्देश दिए हैं। 
युवा सांसद ने कहा कि सरकार एक तरफ तो हमारी पुरानी सभ्यता को सहेजने और संजोने की बात कह रही है वहीं दूसरी ओर बसी-बसाई सभ्यता को उजाडऩे के फरमान जारी कर रही है, यह न तो तर्कसंगत है न ही न्यायोचित। उन्होंने कहा कि गांव राखीगढ़ी की पीढिय़ों ने अपना खून-पसीना बहा कर अपने आशियाने बनाएं हैं और पुरातत्व विभाग इन्हें अब तोडऩा चाहता है। सांसद दुष्यंत ने कहा कि पुरातत्व विभाग ने अपने प्रथम चरण में 200 घरों को नोटिस जा कर घर खाली करने के आदेश दिए हैं और इन घरों को तोडऩे के नोटिस जारी किए हैं जिनका गांव वासी विरोध कर रहे हैं।
इनेलो सांसद ने कहा कि गांव राखीगढ़ी के नोटिस का मामला उन्होंने लोकसभा में उठाया था और 400 वर्ष पहले बसे इस गांव को न उजाडऩे की मांग केंद्र सरकार के समक्ष लोकसभा में रखी थी। उन्होंने कहा कि इस मामले को लेकर वह लोकसभा सत्र शुरू होने से पहले केंद्रीय मंत्री से मिलेंगे, इसके लिए भी संघर्ष समिति के सदस्यों को दुष्यंत ने दिल्ली आमंत्रित किया। 

WhatsApp पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 7400023000 को अपने Mobile में Save करके इस नंबर पर Missed Call करें ।