newsdog Facebook

वेलेंटाइन डे- प्रेमी जोड़ों पर बजरंग का डंडा, दौड़ा दौड़ा कर पीटा

Khabare 2018-02-14 12:48:00

 

नई दिल्ली। आज वेलेंटाइन डे और पूरा देश प्यार के इस महापर्व का हिस्सा बन रहा है। शहरों से लेकर कस्बों तक हर जगह प्रेमी जोड़े एक दूसरे के साथ मोहब्बत के पल गुजार रहे है। लेकिन इसी बीच हर बार की तरह एक बार फिर से प्रेम पर बजरंग का पहरा देखने को मिल रहा है। गुजरात के अहमदाबाद से लेकर यूपी की राजधानी लखनऊ तक बजरंग दल का कहर देखने को मिल रहा है। अहमदाबाद में प्रेमी जोड़ों को पार्क में दौड़ा दौड़ा कर पीटा गया है।

आपको बता दें कि, बजरंग दल ने पूरे देश भर में वेलेंटाइन डे का पहले ही विरोध किया था। अहमदाबाद में बजरंग दल ने सड़कों पर पोस्टर लगा कर वार्निंग जारी किया था कि, कोई भी जोड़ा वेलेंटाइन डे दिन पब्लिक प्लेस पर रोमांस करते न दिखें। वहीं कुछ पार्कों में जब प्रेमी जोड़ों को बजरंग दल के कार्यकर्ताओं ने देखा तो वो उन्हें दौड़ाकर लाठी डंडो से पिटने लगे।

प्रेमी दिखें तो शादी करा देंगे:

नागपुर में बजरंग दल ने जगह जगह पोस्टर लगा रखें हैं कि, यदि कोई भी जोड़ा सार्वजनिक स्थल पर रोमांस करता दिख गया तो वो उन्हें पकड़कर तत्काल उनकी शादी करा देंगे। इसके अलावा कुछ जगहों पर बजरंग दल के कार्यकर्ताओं का कुछ जोड़ों से झड़प होने की खबर भी आयी है। यहां पर भी प्रेमी जोड़ों पर बजरंग का डंडा चला है।

जमशेदपुर के जुबली पार्क में भी वेलेंटाइन डे के विरोध में बजरंग दल ने प्रदर्शन किया है। यहां पर जोड़ो को देखते ही बजरंग दल के कार्यकर्ताओं ने उन्हें दौड़ा लिया। जिसके बाद भारी हंगामा हुआ। बताया जा रहा है कि, कुछ जगहों पर पुलिस भी मौजूद थी, लेकिन बावजूद इसके बजरंग दल के कार्यकर्ताओं ने जमकर हंगामा काटा।

योगी राज में नो वेलेंटाइन:

उत्तर प्रदेश में इस बार का वेलेंटाइन डे काफी फिका नजर आ रहा है। सूबे की राजधानी के विश्वविधालय में पहले ही फरमान जारी कर दिया गया था। कि, आज के दिन कोई भी छात्र या फिर छात्रा परिसर में नहीं आयेगा। यदि कोई भी छात्र परिसर में घुमता दिखाई दिया तो उनके खिलाफ अनुशासनात्मक कार्यवाही की जायेगी।

लखनऊ विश्वविधालय के इस तुगलगी फरमान के बाद छात्रों ने जमकर बवाल मचाया और काफी विरोध करने के बाद विश्वविधालय प्रशासन को अपना ये फैसला वापस लेना पड़ा। लेकिन बावजूद इसके प्रेमी जोड़ों में भय व्याप्त है। बताया जा रहा है कि, बहुत से छात्र बजरंग दल और प्रशासन के डर से विश्वविधालय नहीं पहुंचे है।