newsdog Facebook

आठ हजार बिल, सेंटर एक

Divya Himachal 2018-02-14 22:18:28

पांवटा साहिब— पांवटा साहिब विद्युत उपमंडल में आठ हजार उपभोक्ताओं के लिए मात्र एक बिल कलेक्शन सेंटर है। जाहिर सी बात है कि लोगों को बिल जमा करने के लिए लंबी लाइन में घंटों खड़े रहना पड़ता है। यहां पर विद्युत उपभोक्ताओं की संख्या तो लगातार बढ़ रही है। जबकि विद्युत विभाग में कर्मचारियों की नई भर्ती नहीं होने से कर्मचारियों की संख्या कम होने से आम जनता को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। कर्मचारियों की कमी के कारण शहर का बिल काउंटर बंद हो गया है। और आसपास की पंचायतों के बिल कलेक्शन सेंटर भी बंद हो गए हैं। इससे विद्युत उपभोक्ताओं को बिल जमा करने के दौरान भारी परेशानी होती है। एक बिल जमा करने के लिए सुबह 10 बजे से लाइन में लगता पड़ता है। इस दौरान करीब दो-दो घंटों तक लंबी लाइन में लगकर तब जाकर विद्युत बिल जमा करना करना पड़ता है। पांवटा में गुरुद्वारे के समीप पहले विद्युत विभाग का काउंटर होता था। लेकिन इसको कई साल पहले कर्मचारियों की कमी होने के चलते बंद कर दिया गया। जिस कारण अब लोगों को बद्रीपुर में विद्युत बिल जमा करने आना होता है। यहां पर शहर के अलावा गांवों के बिल भी जमा होते हैं। जिस कारण यहां पर लंबी लंबी लाइनें लगी रहती है। जानकारी के मुताबिक पांवटा विद्युत उपमंडल के तहत शहर के 13 वार्डों के अलावा आसपास के गांवों के लिए बद्रीपुर में ही विद्युत बिल जमा करने का कांउटर है। जिस कारण यहां पर लंबी लंबी लाइनं लगी रहती है। पांवटा शहर के अलावा तीन पंचायतों के 10 गांवों के करीब पांच हजार विद्युत उपभोक्ता विद्युत बिल जमा करने को लेकर परेशान है।  इस बारे पांवटा विद्युत मंडल के एक्सईएन दर्शन सिंह ठाकुर ने बताया कि विभाग के पास स्टाफ  की कमी है। इसलिए अस्थायी केंद्र बंद करने पड़े। उन्होंने कहा कि अब तो ग्रामीण अपने समीप के लोकमित्र केंद्रों में बिल जमा कर रहे है। शहर में भी काफी लोग लोकमित्र केंद्र में बिल जमा कर रहे है। उन्होंने कहा कि शहर के बद्रीपुर में बिल जमा करने के दौरान दो कर्मचारी तैनात किए जाते हैं।

बंद हुआ अस्थायी कलेक्शन सेंटर

पांवटा विद्युत मंडल के सतौन उपमंडल के तहत आने वाली निहालगढ़, अजौली व मुगलावाला करतारपुर पंचायतों के करीब 10 गांवों के विद्युत उपभोक्ताओं के लिए विद्युत विभाग ने ज्वालापुर के समीप अस्थायी केंद्र बनाया था जहां विद्युत बिलों को जमा किया जाता था। यहां विद्युत विभाग के दो कर्मचारी इन केंद्रों में जाकर विद्युत बिल एकत्रित किया करते थे। लेकिन विद्युत विभाग ने इस केंद्र को बंद कर दिया है।