newsdog Facebook

खाद न मिलने से चौपाल के किसान मायूस

Divya Himachal 2018-02-14 22:31:55

चौपाल    — उपमंडल चौपाल के तीन खाद वितरण केंद्रों को केवल एक ही कर्मचारी के हवाले किया गया है। इस वजह से किसानों-बागबानों को समय पर खाद नहीं मिल पाती है। चौपाल में नेरवा, चौपाल व मडौग में तीन खाद वितरण केंद्र स्थापित किए गए हैं व इनमें मात्र एक कर्मचारी की ही नियुक्ति की गई है। इस कर्मचारी के सरकारी कार्य अथवा छुट्टी पर जाने पर लोगों को समय पर खाद नहीं मिल पाती। कुछ ऐसी ही स्थिति मंगलवार व बुधवार को भी देखने को मिली। बारिश व बर्फबारी के बाद किसानों-बागबानों ने राहत भरी सांस अवश्य ली है, परंतु नेरवा स्थित हिमफैड गोदाम में खाद न मिलने से बागबानों में मायूसी छाई हुई है। हालांकि गोदाम में पर्याप्त मात्रा में खाद उपलब्ध है, परंतु गोदाम के इंचार्ज के छुट्टी पर चले जाने से बागबानों को मायूस होकर खाली हाथ वापस लौटना पड़ रहा है। कुछ लोग तो खाद लेने के लिए गाडि़यां बुक कर लाए थे, परंतु नेरवा में खाद न मिलने के कारण उन्हें गाडि़यों की बुकिंग राशि के रूप में हजारों रुपए का चूना लग गया। बता दें कि नेरवा में खाद सोमवार, मंगलवार व बुधवार को हफ्ते में तीन दिन वितरित की जाती है। गौरतलब है कि ताजा हिमपात व बारिश के बाद खाद की मांग एका एक बढ़ गई है। बागबानी विशेषज्ञों का कहना है कि इन दिनों सेब के पौधों की पौष्टिकता के लिए पोटाश व सुपर फोस्फेट खाद डालनी चाहिए। यह खाद फ्लॉवरिंग प्रक्रिया शुरू होने से कम से कम 45 दिन पहले पड़ जानी चाहिए। निचले व मध्यम ऊंचाई वाले क्षेत्रों में मार्च के दूसरे पखवाड़े तक फ्लॉवरिंग की प्रक्रिया शुरू हो जाती है। इस लिहाज से खाद डा़लने का यही सही समय है। गोदाम में खाद न मिलने से बागबानों की चिंताएं बढ़ गई हैं क्योंकि बागीचों में खाद डालने का समय निकलता जा रहा है। शाक क्षेत्र के बागबान प्रेम मेहता ने आरोप लगाया  कि उन्होंने पिछले मंगलवार को गोदाम इंचार्ज से खाद लेने के लिए पूछा था तो उन्होंने जवाब दिया था कि अगले मंगलवार को खाद मिल जाएगी। आज वह सुबह से खाद लेने के लिए गोदाम के बाहर खड़े रहे परंतु गोदाम इंचार्ज के यहां न होने से उन्हें खाद नहीं मिल पाई। वहीं, ग्राम पंचायत नेरवा के पंचायत समिति सदस्य केशव राम, हेत राम, बेली राम, हरी नंद, सुनील लोधटा, महेंद्र पांटा, धनी राम अमरेट, बीर सिंह, मस्त राम खागटा व अमर सिंह आदि ने आरोप लगाया कि वह मंगलवार को सुबह से दोपहर बाद तक खाद लेने के लिए गोदाम के बाहर खड़े रहे। इंचार्ज से बात करने का प्रयास किया गया परंतु उनका मोबाइल स्विच ऑफ पाया गया। दोपहर बाद जब उनका मोबाइल ऑन हुआ तो उन्होंने बताया कि वह छुट्टी पर हैं। इस विषय में गोदाम इंचार्ज एमसी शर्मा से बात करने पर उन्होंने कहा कि उन्होंने मंगलवार को किसी को भी नहीं बुलाया था व सोमवार को खाद वितरित की गई है। फिलहाल वह शिवरात्रि व्रत की वजह से तीन दिन के अवकाश पर हैं। नेरवा में सोमवार से खाद वितरित की जाएगी। बागबानों ने बागबानी मंत्री वीरेंद्र कंवर से मांग की है कि तीनों खाद वितरण केंद्रों पर अलग-अलग कर्मचारियों की नियुक्ति कर उन्हें समय पर खाद उपलब्ध करवाने का इंतजाम किया जाए।