newsdog Facebook

केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी की सूचना पर पकड़े गए दो शिकारी, वन विभाग ने भेजा जेल

Eenadu India 2018-03-13 22:22:00

वीडियो।


ग्वालियर। वन विभाग की टीम ने एक कार्रवाई के दौरान फालका बाजार इलाके से वन्य प्राणियों के साथ दो लोगों को गिरफ्तार किया है। इनके कब्जे से विलुप्त प्रजाति के कछुए और तोते बरामद किए गए हैं। खास बात यह है कि वन्य प्राणियों की खरीद फरोख्त की सूचना केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी के द्वारा वन विभाग को दी गई थी।


वन विभाग की टीम ने दोनों आरोपियों के खिलाफ वन्य प्राणी अधिनियम के तहत मामला दर्ज कर उन्हें जेल भेज दिया है। दरसअल ग्वालियर वन विभाग के डीएफओ विक्रम सिंह परिहार को वाइल्ड लाइफ एक्टिविस्ट ने ग्वालियर में इस तरह के अवैध कारोबार की सूचना दी कि फालका बाजार के निकट भैंस मंडी क्षेत्र में विलुप्त प्रजाति के कछुओं व अन्य वन्य प्राणियों की खुलेआम खरीद-फरोख्त हो रही है।



आदेश पर वन अमले की एक टीम ने फालका बाजार स्थित तीन दुकानों पर छापामारी की। इनमें से आरोपी आरिफ खान निवासी गोल पहाड़िया की दुकान से 13 इंडियन टेंट टर्टल (चंबल के कछुए) व 10 एलेक्जेडराइन पैराकीट (हीरामन तोते) व वही सलीम खान निवासी महलगांव की दुकान से 17 चंबल के कछुए बरामद किए गए। तीसरी दुकान पर केवल मुर्गी, कबूतर आदि ही थे इसलिए वहां केवल जांच की गई।

हाईवे पर धूं-धूं कर जला ट्रक, इस तरह ड्राइवर- क्लीनर ने बचाई जान

अगर आरोपियों का अपराध सिद्ध हो जाता है तो उन्हें सात साल तक की सजा हो सकती है। वहीं इन लोगों को चंबल के आसपास के क्षेत्र के ग्रामीण कछुओं को पकड़कर उनके पास बेच जाते थे। वहीं गुना व शिवपुरी के जंगल से कुछ लोग हीरामन तोतों के बच्चों को बेच जाते थे। गांव वाले कछुओं व तोते के बच्चों को 100 रुपए प्रतिनग में बेच जाते थे। उन्हें वह ग्राहक से सौदा पटने पर 500 से 1000 रुपए तक में बेच देते थे।