newsdog Facebook

जानें इस अनोखी ट्रेन के बारे में दिलचस्प बातें, कैसे किया जाता है इसमें सफर

The Desi Awaz 2018-05-16 09:06:01

जानें इस अनोखी ट्रेन के बारे में दिलचस्प बातें, कैसे किया जाता है इसमें सफर

देखा जाए तो इस दुनिया में अगर कोई ट्रेन ना होती तो ना जाने इंसानों का क्या होता है। कैसे बड़ी जल्दी हम लोग एक शहर से दूसरे शहर जा पाते। वैसे हर किसी के लिए लंबा सफर करना इतना आसान नहीं होता है। लेकिन कई ऐसे भी लोग हैं जिन्हें सिर्फ ट्रेन में ही सफर करना ज्यादा अच्छा लगता है। मौजूदा समय में देखा जाए तो ट्रेन ट्रांसपोर्टेशन का सबसे बड़ा साधन है। और दुनिया की करीब 90% आबादी ट्रेन से यात्रा करती है।

ट्रेन से यात्रा करना ना सिर्फ बड़ो को बल्कि बच्चों को भी खूब पसंद होता है। जब भी लोग कहीं घूमने का प्लान बना रहे होते हैं तो उस दौरान लोग ज्यादातर ट्रेन का ही सफर करना पसंद करते हैं। आप सभी लोगों ने देश-विदेश में कई सारी ट्रेनों में सफर जरूर किया होगा। आपने ट्रेनों को पटरी पर सीधे चलते हुए देखा होगा। लेकिन आज हम आपको बताने वाले हैं पटरी पर उल्टा चलने वाली ट्रेन के बारे में।

यह अनोखी ट्रेन जर्मनी में चलती है। अगर आप इस अजीबोगरीब हैंगिंग ट्रेन में सफर करेंगे तो यह ट्रेन आपके सफर को एक यादगार सफर बना देगी। तो चलिए जानते हैं इस अजीबोगरीब ट्रेन के बारे में कुछ और दिलचस्प बातें हैं। वैसे पूरी दुनिया में जर्मनी अपनी टेक्नोलॉजी और खूबसूरती की वजह से प्रसिद्ध है। और देखा जाए तो ये अनोखी ट्रेन भी देश के इन्वेंशन की ही एक अच्छी मिसाल है।

ट्रेन अनोखी इसलिए है क्योंकि इस ट्रेन के पहिए नीचे की तरफ नहीं बल्कि ऊपर की ओर लगे हुए हैं। इसी वजह से यह ट्रेन उल्टी चलती हुई नजर आती है। साल 1920 में जर्मनी के वुप्पर्टल इलाके में चलाई जाने वाली अजीबोगरीब हैंगिंग ट्रेन मैं रोजाना करीब 82000 से भी ज्यादा लोग यात्रा करते हैं। यह ट्रेन पिछले 100 सालों से यहां चल रही है। इसके साथ ही आपको यह भी बता दें कि इतने सालों मैं इस ट्रेन को चलते हुए हो गए हैं और इस ट्रेन में एक बार ही हादसा हुआ है। और उस हादसे में भी किसी भी जान माल का नुकसान नहीं हुआ था।

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि इस हैंगिंग ट्रेन की ट्रक की लंबाई 13.3 मीटर है। इस ट्रेन के रुकने के लिए करीब 20 स्टेशन अलग से बनाए गए हैं। यह ट्रेन बिजली से चलती है। अगर आप भी एक बार इस अजीबोगरीब ट्रेन में यात्रा कर लेंगे तो आपका वह सफर यादगार बन जाएगा।

दरअसल इस हैंगिंग ट्रेन को बनाने का मकसद पहाड़ी लोगों को होने वाली दिक्कतों का समाधान करना था। इलाका पहाड़ी होने की वजह से जमीन पर ट्राम या अंडरग्राउंड रेल चलाना बहुत ही ज्यादा मुश्किल था। इसी को लेकर कुछ इंजीनियरों ने पहाड़ पर इस हैंगिंग ट्रेन को चलाने का फैसला कर लिया। इसके साथ ही आपको यह भी बता दें कि यह अजीबोगरीब ट्रेन दुनिया की सबसे पुरानी मोनो ट्रेन भी है।