newsdog Facebook

9 बार पद्म विभूषण की रेस में शामिल रहे भारतवंशी वैज्ञानी सुदर्शन, अमेरिका में हुआ निधन

Live India 2018-05-16 14:05:00
New Delhi: पद्मविभूषण भौतिक विज्ञानी ईसी जॉर्ज का 86 साल की उम्र में निधन हो गया। उन्होंने अमेरिका में अंतिम सांस ली। 

बता दें कि वैज्ञानी सुदर्शन ने 40 सालों तक यूनिवर्सिटी ऑफ टेक्सास में बतौर प्रोफेसर अपनी सेवाएं दी। करीब पांच दशक के अपने करियर में उन्होंने क्वांटम ऑप्टिक्स, क्वांटम जीनो इफेक्ट और क्वांटम कंप्यूटेशन से संबंधित कई सिद्धांत दिए। विज्ञान के साथ-साथ दर्शन और धर्म में भी उनका योगदान रहा है। 


वे ह्यूस्टन स्थित श्री मीनाक्षी मंदिर के ऑनररी एडवाइजरी काउंसिल के सदस्य भी रहे हैं। बता दें कि इस महान भारतवंशी वैज्ञानिक को 2007 में भारत सरकार ने देश के दूसरे सबसे बड़े नागरिक सम्मान पद्म विभूषण से भी सम्मानित किया गया। हालांकि वे एक बार भी विजेता नहीं बन पाए, लेकिन हर बार इस सम्मान के लिए उनका नाम शामिल रहा। 



इनका जन्म साल 1931 में केरल के कोट्टायम जिले के पल्लम गांव में हुआ था। उन्होंने कोट्टायम के सीएमएल कॉलेज से अपनी ग्रेजुएशन की पढ़ाई पूरी करने के बाद  यूनिवर्सिटी ऑफ मद्रास से पोस्ट ग्रेजुएशन किया। इसके बाद वे टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ फंडामेंटल साइसेंस चले गए। जहां प्रख्यात वैज्ञानिक होमी जहांगीर भाभा के साथ फंडामेंटल रिसर्च में काम किया। 


हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।