newsdog Facebook

यहां के सरकारी स्कूलों में ठसाठस कक्षाओं में बैठने से मिलेगी निजात

Patrika 2018-05-16 17:48:10

करौली.जिले के ७० सरकारी स्कूलों में ठसाठस कक्षाओं में बैठने वाले विद्यार्थियों को इसी शिक्षण सत्र से निजात मिलेगी। इसके लिए सरकार ने राष्ट्रीय माध्यमिक शिक्षा अभियान (रमसा) के तहत १५ करोड़ रुपए की लागत से ७० स्कूलों में कक्षाओं के निर्माण स्वीकृत किए हैं। सरकारी स्कूलों में नामांकन की तुलना में कक्षा-कक्षों का अभाव होने से विद्यार्थियों की पढ़ाई बाधित होती थी। इसके समाधान के लिए रमसा के अधिकारियों ने नामांकन के आधार पर भवनों के कार्य स्वीकृत करने का प्रस्ताव सरकार को भेजा था। सरकार ने प्रथम चरण में नाबार्ड योजना से ८ स्कूलों में निर्माण कार्य स्वीकृत किए। अधिकारियों ने बताया कि स्कूलों में कक्षा-कक्षों का निर्माण ३० लाख १५ हजार रुपए प्रति स्कूल की लागत से कराया जाएगा। इसी प्रकार प्रथम चरण में ही २६ स्कूलों में औसत रूप से २० से २५ लाख रुपए के निर्माण कार्य कराए जाएंगे। प्रथम चरण में ७७१ लाख ३४ हजार रुपए की लागत से निर्माण कार्य होंगे।
द्वितीय चरण में ३६ स्कूल शामिल
प्रथम चरण के कुछ दिन बाद ही द्वितीय चरण के निर्माण कार्य स्वीकृत कर दिए हैं। इस चरण में रमसा के प्रोजेक्ट से ३६ स्कूलों में निर्माण कार्य कराए जाएंगे। सूत्रों के अनुसार प्रत्येक स्कूल में आवश्यकता के हिसाब से कक्षा-कक्षा तथा बड़े हॉलों का निर्माण होगा। जिन पर ३० से ३५ लाख रुपए की लागत से निर्माण कराए जाएंगे। दोनों चरणों में १५ करोड़ रुपए खर्च होंगे। सूत्रों ने बताया कि निर्माण कार्यों की टेण्डर जारी कर दिए गए हैं। जल्द ही निर्माण कार्य शुरू होंगे।
नामांकन बढऩे की संभावना
शिक्षा विभाग का मानना है कि स्कूलों में कक्षा-कक्षों में बढ़ोतरी होने से छात्र-छात्राओं को पढ़ाई के लिए पर्याप्त जगह मिल सकेगी। स्कूलों में अच्छा वातावरण बनेगा कक्षा-कक्षों के निर्माण के साथ बिजली की व्यवस्था भी की जाएगी। बिजली-पानी की समुचित व्यवस्था होने से अभिभावक स्कूलों में नामांकन कराने के लिए प्रेरित होंगे। विभाग नामांकन के लिए ही स्कूलों में सुविधा जुटा रहा है।
जल्द निर्माण कार्य शुरू होंगे
निर्माण कार्यों की निविदा जारी कर दी गई है, जल्द ही ठेकेदार कार्य करेगा। इससे स्कूलों में अब बैठने के लिए पर्याप्त जगह मिल सकेगी।
इन्द्रेश तिवाड़ी अतिरिक्त जिला परियोजना समन्वयक रमसा करौली