newsdog Facebook

जानलेवा हमलाप्रकरण में दोनों पक्षों को कारावास

Sandhya Border Times 2018-05-17 15:09:01
Home राजस्थान जानलेवा हमलाप्रकरण में दोनों पक्षों को कारावास

– न्यायालय ने दोनों पक्षों पर जुर्माना भी लगाया
श्रीगंगानगर। जानलेवा हमला करने के सात वर्ष पुराने प्रकरण में न्यायालय ने दोनों पक्षों को कारावास की सजा सुनाई है। साथ ही जुर्माना भी लगाया है।
प्रकरण के अनुसार 9 मार्च 2011 को लाधुवाला निवासी अमृतपाल सिंह पुत्र चैनसिंह ने उपचाराधीन अवस्था में जरिए पर्चा बयान देकर लालगढ़ पुलिस थाने मेें मुकदमा दर्ज करवाया। परिवादी ने बताया कि हरनेक सिंह, केवल सिंह, बंता उर्फ मंदीप सिंह, संदीप, रवि, चानण सिंह के खिलाफ प्रकरण विचाराधीन है। इसमें उसके पिता गवाह हैं, जिसकी रंजिशवश आरोपियों ने हथियारों से लैस होकर जानलेवा हमला करते हुए मारपीट की। हरनेक ने सिर में गंडासी मारी।
पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर जांच से आरोपियों को गिरफ्तार कर न्यायालय मेें चालान पेश किया। बाद सुनवाई अपर सैशन न्यायाधीश (संख्या-1) सुनील रणवाह ने हरनेक सिंह, केवल सिंह, बंता उर्फ मंदीप सिंह, चानण सिंह को धारा 323/34 में 3 माह साधारण कारावास और 500 रुपए जुर्माने की सजा सुनाई। जुर्माना नहीं देने पर 15 दिन का अतिरिक्त कारावास भुगतना होगा।
इसी तरह धारा 324/34 में 1 वर्ष साधारण कारावास और 1000 रुपए जुर्माने की सजा सुनाई। जुर्माना नहीं देने पर एक माह का अतिरिक्त कारावास भुगतना होगा।
अतिरिक्त लोक अभियोजक श्रीकृष्ण कुक्कड़ ने बताया कि इसी प्रकरण के मंदीप सिंह पुत्र हरनेक सिंह निवासी लाधुवाला ने लालगढ़ पुलिस थाना में परिवाद देकर चैनसिंह पुत्र जरनैल सिंह, अमृतपाल सिंह पुत्र चैनसिंह, जसपालसिंह पुत्र गुरदेवसिंह, हरविन्द्र सिंह पुत्र मलकीयत सिंह के खिलाफ हथियारों से लैस होकर जानलेवा हमला करने के आरोप में मुकदमा दर्ज करवाया। परिवादी ने बताया कि आरोपियों ने एक राय होकर जान से मारने की नीयत से चाचा केवलसिंह पर गंडासी, कसिया और कुल्हाड़ी से हमला किया। पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर जांच से आरोपियों को गिरफ्तार कर न्यायालय मेें चालान पेश किया।
बाद सुनवाई अपर सैशन न्यायाधीश (संख्या-1) ने चैनसिंह, अमृतपाल सिंह, जसपालसिंह और हरविन्द्र सिंह को धारा 341 में 15 दिन साधारण कारावास और 100 रुपए जुर्माने की सजा सुनाई। जुर्माना नहीं देने पर 3 दिन का अतिरिक्त कारावास भुगतना होगा। इसी तरह धारा 323 में 3 माह साधारण कारावास और 500 रुपए जुर्माने की सजा सुनाई। जुर्माना नहीं देने पर 15 दिन का अतिरिक्त कारावास भुगतना होगा। धारा 324 में 1 वर्ष साधारण कारावास और 1000 रुपए जुर्माने की सजा सुनाई। जुर्माना नहीं देने पर 1 माह का अतिरिक्त कारावास भुगतना होगा। धारा 326 मेें 3 वर्ष साधारण कारावास और 2000 रुपए जुर्माने की सजा सुनाई। जुर्माना नहीं देने पर 3 माह का अतिरिक्त कारावास भुगतना होगा। धारा 308 में 3 वर्ष साधारण कारावास और 5000 रुपए जुर्माने की सजा सुनाई। जुर्माना नहीं देने पर 6 माह का अतिरिक्त कारावास भुगतना होगा।