newsdog Facebook

सर्दियों में बॉडी को एेसे बनाएं रखें खूबसूरत और हॉट

Patrika 2018-11-06 15:17:05

सर्दियां आते ही त्वचा रूखी व बेजान होकर रंगत खोने लगती है। त्वचा में नमी न रहने से कई बार एलर्जी भी हो जाती है। विशेषज्ञों के अनुसार कुछ विशेष सावधानियां अपनाकर हम त्वचा की कोमलता बनाए रख सकते हैं।

नियमित मॉइश्चराइजर लगाएं -
मॉइश्चराइजर त्वचा में नमी को बनाए रखता है। अगर आप के पास ऐसा मॉइश्चराइजर है जिसे आप गर्मियों में भी इस्तेमाल कर रही थीं, तो उसे सर्दियों में भी ज्यादा मात्रा में कई बार प्रयोग करें। घरेलू मॉइश्चराइजर बनाने के लिए गुनगुने पानी में ग्लिसरीन मिक्स करके लगा सकती हैं या नहाने से पहले जैतून का तेल शरीर पर लगाएं।

रूखी त्वचा के लिए क्लींजिंग -
ज्यादा गर्म पानी से त्वचा का नैचुरल ऑयल खत्म होता है इसलिए गुनगुने पानी का प्रयोग करें। देर तक न नहाएं इससे त्वचा की नमी कम होती है। दूध में बेसन मिलाकर चेहरा साफ करें या जई का पाउडर पानी में मिलाकर प्रयोग करें। रूखी त्वचा के लिए पीएच न्यूट्रल क्लींजर का प्रयोग करें। आम साबुनों में पीएच की मात्रा 7होती है जबकि चेहरे के लिए 5.5 पीएच होना चाहिए।

कोहनी और एड़ी का भी रखें ख्याल -
फटी एड़ियों और खुरदरी कोहनियों के लिए यूरिया युक्त मॉइश्चराइजर लगाएं। कॉटन सोक्स पहनें। फटी एड़ियों के लिए नींबू पानी में मिलाकर उसमें पैर डुबोकर रखें और फिर प्यूमिक स्टोन से पैर साफ करें।

सनस्क्रीन का प्रयोग करें -
अक्सर लोगों को लगता है कि सर्दियों में सनस्क्रीन की क्या जरूरत। लेकिन सर्दी के दिनों में हम धूप सेंकते हैं। सूरज की रोशनी में मौजूद अल्ट्रा वॉयलेट किरणें त्वचा को नुकसान पहुंचा सकती हैं इसलिए हर दो घंटे में सनस्क्रीन लगाते रहें।

कोमल बनें होंठ -
सर्दियों में फटे होंठों पर हम अक्सर जीभ फेरते रहते हैं इससे इनकी त्वचा और रूखी हो जाती है। कई बार घटिया क्वालिटी की लिपस्टिक भी होंठों को नुकसान पहुंचाती है इसलिए लिपस्टिक लगाने से पहले एसपीएफ(सूर्य की रोशनी से बचाने वाला तत्व) युक्त लिप बाम लगाएं।

अच्छा खाएं, अच्छा पीएं -
आप वैसे ही दिखते हैं जैसा आप खाते हैं इसलिए रोजाना ताजे फल और सब्जियां खाएं। अलग-अलग रंगों की चीजें खाने से शरीर को तरह-तरह के एंटी ऑक्सीडेंट्स मिलते हैं जैसे हरे पालक के साथ लाल गाजर। त्वचा में पानी की कमी न हो इसलिए नियमित रूप से आठ गिलास पानी पीएं और कॉफी कम लें जिससे शरीर में पानी की कमी न हो और ग्लूकोज का लेवल सामान्य बना रहे।