newsdog Facebook

इस किले में से आज भी आती है चीखनें की अवाजें,पहले होता था घिनौना काम

Naukri Namaa 2019-01-10 11:55:32

जयपुर, भारत में आज भी ऐसे कई स्थान है जिनके रहस्य के बारे में जानने के लिए लोग बेहद उत्साहीत है। ऐसे स्थानों का पता लगाने के लिए कई शौध किए जा चुके है फिर भी वैज्ञानिकों को कुछ भी हाथ नहीं लगा है। आज हम आपको एक ऐसे किले के बारे में बताने जा रहे है जिसके इतिहास के बारे में जानकर आपके पैरों तले जमीन खिसक जाएगी। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार इस किले को राजा मर्दन सिंह ने बनवाया था। ये तालबेहट गांव में स्थित है।जानकारी के लिए बता दें कि राजा मर्दन सिंह का नाम इतिहास के पन्नों में बड़े सम्मान के साथ लिखा गया है। बता दें कि राजा ने 1857 की क्रांति में रानी लक्ष्मीबाई का साथ दिया था। राजा के लिए कई ऐसी कहानियां प्रसिद्द है जिनमें राजा ने प्रजा के लिए बेहद शानदार काम किए थे। लेकिन उनके नाम के साथ एक ऐसी कहानी जुड़ी जो उनके नाम को कंलकित करती है। इस समय राजा मर्दन सिंह बानपुर के राजा बने थे। उन्होंने तालबेहट गांव में एक किले का निर्माण करवाया था। जिसमें उनके पिता जी प्रहलाद रहते थे। मीडिया रिपोर्ट्स की माने तो तालबेहट गांव में अक्षय तृतिया का आयोजन किया जाता था। यहां पर नेक मांहने की रस्म निभाई जाती थी। रस्म को निभाने के लिए गांव के लोगों ने सात लड़कियों को महल में भेजा था। इसलिए लड़किया राजा के पिता के पास नेक मांगने पहुंची। हैरान कर देने वाली बात है कि राजा के पिता ने उन सात लड़कियों के साथ रेप किया। इस शर्मनाक हरकत की वजह से लड़कियों ने महल से कुदकर आत्महत्या कर ली। राजा के खिलाफ प्रजा ने आक्रोश दिखाया। इसका पश्चताप करने के लिए राजा ने महल के बार उन लड़कियों की तस्वीर बनवा दी। दरवाजे पर वो तस्वीरे आज भी दिखाई देती है। स्थानीय लोगों का कहना है कि आज भी इन लड़कियों की चीखें सुनाई देती है।।