newsdog Facebook

इस प्रकार की पूजा से बहुत जल्दी प्रसन्न होते हैं शनिदेव, इन समस्याओं से मिलती है मुक्ति

Patrika 2019-01-10 11:51:48

शनिदेव को प्रसन्न करने के लिए उनकी पूजा-अर्चना, उपवास और दान पुण्य लाभकारी रहती है।

नई दिल्ली। शनि ग्रह को नव ग्रह में सातवें स्थान का ग्रह माना जाता है। शनिदेव को पूजाने से जीवन में शनि ग्रह के शुभ प्रभाव पड़ते हैं और उस व्यक्ति का जीवन में अहित नहीं होता है। शनिदेव को प्रसन्न करने के लिए उनकी पूजा-अर्चना, उपवास और दान पुण्य लाभकारी रहती है। शनिदेव की अनिष्टकारी दृष्टि जिसके ऊपर पड़ जाए उसे जीवन में विभिन्न तरह की पीड़ाओं का सामना करना पड़ता है जिससे अधिकांश लोग भय में रहते हैं। आइये जानते हैं कि कैसे सरल और आसान उपायों को करने से शनिदेव को प्रसन्न किया जा सकता है।

  1. शनि देव व्यक्ति के जीवन में उसके कर्मों के अनुसार ही उसे फल देते हैं। जिसका जैसा कर्म वैसे ही नकारात्मक और सकारात्मक प्रभाव जीवन में झेलने पड़ते हैं।
  2. शनिदेव की पूजा न्याय प्रिय और न्याय के देवता के तौर पर की जाती है। वह अपने भक्तों के साथ किसी भी क्षेत्र में अन्याय नहीं होने देते हैं।
  3. शनिवार का दिन शनि की पूजा का सबसे उत्तम दिन माना जाता है और उनकी पूजा करने वाले व्यक्ति को शनि की साढैसाती और ढैया से भी मुक्ति मिलती है।
  4. कुंडली में शनि के नकारात्मक प्रभाव को कम करने के लिए भी शनिदेव की पूजा करनी चाहिए इससे शनि का प्रभाव खत्म किया जा सकता है।
  5. शनिवार के दिन स्नान आदी के बाद काले कपड़े पर शनिदेव की प्रतिमा स्थापित करें और फूल माला अर्पण करनी चाहिए।
  6. शनि प्रतिमा के समक्ष सरसों के तेल का दीपक जलाना चाहिए व काले तिन, काली उड़द की दाल और सुपारी चढ़ानी लाभकारी रहती है।
  7. शनि देव की पूजा में नीले रंग के फूलों का इस्तेमाल करना अच्छा माना जाता है साथ ही शनि देव को सिंदूर चढ़ाना और काजल लगानी चाहिए।
  8. इस दिन बाज़ार से सरसों का तेल नहीं खरीदना चाहिए बल्कि किसी ग़रीब या ज़रूरतमंद को सरसों के तेल का दान करना अच्छा माना जाता है।
  9. साथ ही शनिदेव को प्रसन्न करने के लिए काले कुत्ते को रोटी खिलानी चाहिए। काले कुत्ते के अलावा गाय को भी रोटी खिलानी लाभकारी मानी जाती है।
  10. शनिवार के दिन नमक भी खरीदना नहीं चाहिए इससे भी जीवन में नकारात्मक प्रभाव उत्पन्न हो सकते हैं।