newsdog Facebook

कोरोना कर्मवारी: कोरोना आपदा प्रबंधन के साथ निगरानी की जिम्मेदारी

Patrika 2020-04-06 20:09:00

दौसा. कोरोना महामारी से बचाव के लिए चिकित्सा, पुलिस, प्रशासन, नगर निकाय सहित अन्य विभागों के अधिकारी-कर्मचारी मुस्तैदी से कार्य कर रहे हैं। वहीं मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी कार्यालय के जिला कंट्रोल रूम व दौसा शहरी क्षेत्र के प्रभारी के रूप में वरिष्ठ दंत चिकित्सक डॉ. दीपक शर्मा Covid-19 Doctors बखूबी जिम्मेदारी का निर्वहन कर रहे हैं। इस आपदा के समय अपना कर्तव्य निभाने के लिए वे घर से भी दूर हो गए हैं। परिजनों को किसी तरह का कोई खतरा ना हो इसलिए कार्यालय के बाद उनके रहने व खाने का इंतजाम होटल में किया गया है।

Corona Workforce: Monitoring Responsibility with Disaster Management

कंट्रोल रूम पर दिनभर में सुनते हैं करीब 300 कॉल

जिला कंट्रोल पर दिनभर में करीब 300 कॉल अटेंड कर डॉ. दीपक शर्मा Covid-19 Doctors उन सभी का निस्तारण करते हैं। शहरी क्षेत्र व खैरवाल सीमा की चिकित्सा व्यवस्था की जिम्मेदारी भी उनके जिम्मे है। कोरोना लैब व आइसोलेशन स्टाफ को भी संभाल रहे हैं। कार्यालय के साथ वार्ड में भी जाना पड़ता है। सभी दंत चिकित्सकों को जिला अस्पताल से सीएमएचओ कार्यालय के लिए रिलीव करने के बाद खुद डॉ. शर्मा ने इतनी महत्वपूर्ण जिम्मेदारी अपने ऊपर ली।

Corona Workforce: Monitoring Responsibility with Disaster Management

पॉजिटिव केस मिलने के बाद उनकी जिम्मेदारी और बढ़ गई

इस कार्य में निचले स्तर से लेकर आला अधिकारियों तक से समन्वय स्थापित रखना पड़ता है। जिले के विभिन्न विभागों से भी जहां पर भी चिकित्सा सेवाओं की जरूरत होती है, उनके कंट्रोल रूम पर ही सूचना आती है। वर्तमान में दौसा शहर में तीन कोरोना पॉजिटिव केस मिलने के बाद उनकी जिम्मेदारी और बढ़ गई है। उनके साथ क्विक रेस्पोंस टीम में डॉ. अजय सोनी, डॉ. अनूप शर्मा, डॉ. जितेन्द्र शर्मा, डॉ. राजेश मीना एवं चिकित्साकर्मी व पैरामेडिकल स्टाफ भी शामिल है।

Corona Workforce: Monitoring Responsibility with Disaster Management