newsdog Facebook

कोरोना फाइट: एक और मरीज को मिली छुट्टी, एक का इलाज जारी लॉकडाउन खत्म होने को लेकर सीएम बघेल ने पीएम मोदी को लिखा पत्र

Patrika 2020-04-06 20:09:16

रायपुर. कोरोना वायरस का कहर दुनियाभर में जारी है। इस वायरस से मौतों का आंकड़ा 70,300 से अधिक पहुंच गया है। वहीं दुनिया में कोरोना संक्रमितों की संख्या अब करीब 13 लाख से अधिक हो चुकी है। ऐसे में छत्तीसगढ़ ने कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए मॉडल स्थापित कर देश के टॉप-10 राज्यों में अपनी जगह बना ली है। प्रदेश में अबतक कोरोना संक्रमण के 10 मामले सामने आए हैं। इनमें से 9 मरीज स्वस्थ होकर अपने घर जा चुके हैं। अब सिर्फ एक मरीज का इलाज किया जा रहा है। पिछले 24 घंटों में प्रदेश में कोरोना संक्रमण का कोई नया मामला सामने नहीं आया है। ये एम्स के डॉक्टरों और स्टॉफ का ही नतीजा है। एम्स की पूरी टीम पूरी निष्ठा के साथ अपना काम कर रही है और मरीजों की पूरी देखभाल कर रही है। इधर, संक्रमण से बचे रहने के लिए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से लॉकडाउन खत्म होने के बाद भी रेल और हवाई यातायात शुरू करने से पहले विचार करने का आग्रह किया है।

9वां कोरोना पॉजिटिव मरीज 7 दिन में स्वस्थ होकर अपने घर लौटा
सोमवार को रायपुर एम्स में भर्ती एक और कोरोना पॉजिटिव मरीज को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई। अब तक प्रदेश में 10 में से 9 कोरोना पॉजिटिव ठीक होकर अपने घर जा चुके हैं। सोमवार को जिस युवक को अस्पताल से छुट्टी मिली है वह कोरबा का रहने वाला है। यह युवक भी यूके से लौटा था और उसे 30 मार्च को अस्पताल में भर्ती कराया गया था। प्रदेश में रायपुर में पांच, बिलासपुर में एक, राजनांदगांव में एक, भिलाई में एक और कोरबा में दो कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे। इनमें कोरबा का 16 साल का जमाती का एम्स में उपचार जारी है।

कोरोना नियंत्रण पर प्रधानमंत्री मोदी को लिखा पत्र
छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए लगाए गए लॉकडाउन को लेकर पत्र लिखा है। यह लॉकडाउन 14 अप्रैल को खत्म हो रहा है। ऐसे में मुख्यमंत्री ने कहा है कि इसको लेकर एक बार विचार कर लेना चाहिए। अंतरराज्यीय आवागमन शुरू करने से पहले पूरे देश में कोरोना के प्रसार की स्थिति को नियंत्रण में रखने के लिए ठोस उपाय सुनिश्चित हों। बघेल ने लिखा है कि राज्य शासन की ओर से किए गए उपाय और जनसहयोग से अभी तक स्थिति नियंत्रण में है। देश के अन्य भागों में कोविड-19 के पीडि़तों की संख्या में वृद्धि हो रही है। देश में अगर 14 अप्रैल के बाद ट्रेन, फ्लाइट और सड़क-परिवहन शुरू किया जाता है तो संभावना है कि छत्तीसगढ़ में अन्य राज्यों से संक्रमित व्यक्ति आ सकते हैं।

15 दिन और अधिक सतर्कता से काम करने की जरूरत है।
इधर, केंद्र सरकार के कैबिनेट सचिव राजीव गौबा ने विभिन्न राज्यों के मुख्य सचिवों से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए कहा कि लॉकडाउन से देश को कोरोनावायरस के असर को कम करने की दिशा में ठोस कदम उठाने और किसी भी परिस्थिति का सामना करने के लिए तैयार रहने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि सभी राज्यों को 15 दिन और अधिक सतर्कता से काम करने की जरूरत है।

लागों के लिए जीवन दायिनी बना रायपुर का एम्स हॉस्पिटल
रायपुर का एआईआईएमएस (एम्स) हॉस्पिटल सुषमा स्वराज की ही देन है। उन्होंने ही छत्तीसगढ़ में एम्स खोलने का प्रस्ताव रखा था। 20 जून 2012 को रायपुर एम्स की शुरुआत हुई थी। सुषमा तो नहीं रहीं, लेकिन यह एम्स अस्पताल आज बहुत से लोगों के लिए जीवन दायनी बन गया है। भारतीय जनता पार्टी की कद्दावर नेता और पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज का 6 अगस्त 2019 को निधन हो गया था।