newsdog Facebook

चेन्नई: स्वागत के लिए उमड़ा बीजेपी समर्थकों का जनसैलाब-प्रोटोकॉल तोड़ कर पैदल चले अमित शाह, हाथ हिलाकर किया अभिवादन

Live Today 2020-11-21 18:07:40

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह शनिवार को दो दिवसीय दौरे पर तमिलनाडु में हैं।चेन्नई एयरपोर्ट के बाहर भारी संख्या में बीजेपी और राज्य में उसकी सहयोगी पार्टी एआईएडीएमके के समर्थक अपनी-अपनी पार्टियों के झंडों के साथ अमित शाह के स्वागत के लिए मौजूद थे। इतनी भारी संख्या में मौजूद समर्थकों को देखकर अमित शाह ने अचानक अपनी कार रुकवाई और बाहर उतरकर पैदल चलने लगे।

चेन्नई एयरपोर्ट पर उनका स्वागत राज्य के मुख्यमंत्री ई. पलानीस्वामी, डेप्युटी सीएम ओ. पन्नीरसेल्वम, कैबिनेट के वरिष्ठ मंत्रियों और बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष एल. मुरुगन ने किया। अमित शाह यूं तो तमिलनाडु सरकार के एक कार्यक्रम में हिस्सा लेने पहुंचे हैं, लेकिन उनकी निगाहें अगले साल राज्य में होने वाले विधानसभा चुनाव की तैयारियों पर भी रहेगी।

बीजेपी ने राज्य में अगले साल के चुनाव के लिए माहौल तैयार करने की कवायद अभी से शुरू कर दी है। इसकी एक बानगी शनिवार को चेन्नई एयरपोर्ट के बाहर देखने को मिली। जहां भारी संख्या में बीजेपी और राज्य में उसकी सहयोगी पार्टी एआईएडीएमके के समर्थक अपनी-अपनी पार्टियों के झंडों के साथ अमित शाह के स्वागत के लिए मौजूद थे।

சென்னை வந்தடைந்தேன்!

தமிழகத்தில் இருப்பது என்றும் எனக்கு மகிழ்ச்சியே. இன்று பல்வேறு நிகழ்ச்சிகள் மூலம் எனது அன்புக்குரிய தமிழக சகோதர சகோதரிகளிடையே உரையாற்றுகிறேன்! pic.twitter.com/SIyGePTc9W

— Amit Shah (@AmitShah) November 21, 2020

इतनी भारी संख्या में मौजूद समर्थकों को देखकर अमित शाह ने अचानक अपनी कार रुकवाई और बाहर उतरकर पैदल चलने लगे। अमित शाह ने भारी सुरक्षा के बीच हाथ हिलाकर समर्थकों का अभिवादन किया। अपने नेता को अपने बीच देखकर बीजेपी समर्थकों में गजब का उत्साह देखने को मिला और नारेबाजी कर उन्होंने अमित शाह का चेन्नै में स्वागत किया।

गौरतलब है कि अगले साल विधानसभा चुनाव से पहले तमिलनाडु की राजनीति करवट ले रही है। करुणानिधि के बेटे एमके अलागिरी के अपनी अलग पार्टी बनाने की चर्चा जोरों पर है। दूसरी तरफ, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की रजनीकांत से मुलाकात होनी है और उनके अलागिरी से मिलने की भी चर्चा है। कयास लग रहे हैं कि बीजेपी और अलागिरी की पार्टी में गठबंधन हो सकता है। कुल मिलाकर अलागिरी फिलहाल तमिलनाडु की राजनीति के केंद्र में हैं।