newsdog Facebook

जानिए बंगाल में नमाजी टोपी पहने मुस्लिम युवक ने पीएम मोदी के कान में क्या कहा ?

Perform India 2021-04-07 13:18:44

पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव के दौरान प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की एक मुस्लिम युवक के साथ तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हो रही थी। इसमें देखा जा सकता था कि एक मुस्लिम युवक उनके कान में कुछ कह रहा था और प्रधानमंत्री भी बड़े ध्यान से उसकी बात सुन रहे थे। इस तस्वीर को देखकर लोगों में जिज्ञासा पैदा हुई कि आखिर मुस्लमि युवक कौन है? हालांकि कई लोगों ने इस तस्वीर पर सवाल भी उठाए और नमाजी टोपी पहने उस युवक को हिंदू बता दिया, लेकिन अब उस तस्वीर की पूरी कहानी सामने आ चुकी है।

दरअसल नमाजी टोपी पहने युवक का नाम जुल्फिकार है। बीते तीन अप्रैल को पश्चिम बंगाल के सोनारपुर में प्रधामंत्री मोदी ने एक जनसभा को संबोधित किया। प्रधानमंत्री मोदी जब मुस्लिम युवक के करीब आए तो उसके कंधे पर हाथ रखा और फिर कुछ समय के लिए दोनों के बीच बातचीत भी हुई। इस दौरान दोनों की आत्मीयता भरी तस्वीर कैमरे में कैद हो गई।   

नवभारत टाइम्स ऑनलाइन से बातचीत में जुल्फिकार ने कहा कि कुछ लोगों ने तस्वीर देख ये कहा कि हो सकता है ये लड़का हिंदू हो। लेकिन मुझे किसी से प्रमाण नहीं चाहिए। मुझे भारत सरकार ने सर्टिफिकेट दिया है। मेरा नाम जुल्फिकार है और मेरे पिता अब्दुल साजिद हैं। जुल्फिकार ने प्रधानमंत्री मोदी से मिलने की खुशी जाहिर करते हुए कहा कि मैंने सपने में भी नहीं सोचा था कि मैं वहां तक पहुंच जाऊंगा। मैंने सोचा था कि एकबार प्रधानमंत्री मोदी को दूर से देख लूं और उनको प्रणाम कर लूं। मैं उन्हें बहुत फॉलो करता हूँ।

जुल्फिकार ने बताया कि प्रधानमंत्री से मिलते समय उन्होंने इत्तेफाक से वही पैंट पहनी थी जिसे पहन वह जुमे की नमाज करने गए थे। जेब में नमाजी टोपी थी। इसे देख वहां खड़े एक शख्स मेघनाथ पोद्दार ने बताया कि नमाजी टोपी पहन लीजिए आप अच्छे दिखेंगे। इसके बाद नमाजी टोपी पहन लिया और प्रधानमंत्री से मिला, जैसा कि तस्वीर में दिख भी रहा है।

जुल्फिकार प्रधानमंत्री मोदी के कान में क्या कहा ? इसके बारे में बताया, “प्रधानमंत्री मोदी अपनी गाड़ी की तरफ आ रहे थे। वहां मौजूद सभी लोगों ने उन्हें नमस्ते किया। मैंने भी उन्हें सलाम किया, फिर उन्होंने भी ठीक उसी तरह से मुझे भी सलाम किया। इसके बाद वह गाड़ी से उतरे और मेरा नाम पूछा। मैंने उनसे कहा कि मेरा नाम जुल्फिकार अली है, लेकिन हेलीकॉप्टर की तेज आवाज के कारण वह मेरी बात को नहीं सुन पाए। इसके बाद वह मेरे नजदीक आए और फिर मैंने उन्हें अपना नाम बताया। प्रधानमंत्री मोदी ने मेरे कंधे पर हाथ रखा और मुझसे पूछा कि आप क्या बनना चाहते हैं? इसके जवाब में मैंने उनसे कहा कि मैं विधायक या सांसद नहीं बनना चाहता, बल्कि राष्ट्रहित के लिए काम करना चाहता हूं।”

इस जवाब के बाद भी प्रधानमंत्री ने जुल्फी से पूछा कि आप और क्या चाहते हैं। इस पर जुल्फी ने उनके साथ फोटो की इच्छा जाहिर की, लेकिन जब तक वह अपनी जेब से फोन निकालते, तब तक पीएम ने अपने फोटोग्राफर को फोटो के लिए कह दिया और जुल्फी से सामने देखने को बोला। इसके बाद पीएम ने जाते हुए उनसे कहा कि आपसे जल्द मुलाकात होगी।