newsdog Facebook

PM ने कोविड ड्यूटी के लिए मानव संसाधन को बढ़ावा देने को कई फैसले लिए

Khas Khabar 2021-05-04 00:00:00

नई दिल्ली । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को कोविड-19 महामारी का जवाब देने के लिए पर्याप्त मानव संसाधनों की बढ़ती जरूरत की समीक्षा की और कोविड ड्यूटी में चिकित्सा कर्मियों की उपलब्धता को बढ़ाने के लिए कई महत्वपूर्ण फैसले लिए। एनईईटी-पीजी को कम से कम चार महीने के लिए स्थगित करने का निर्णय भी लिया गया था और इस वर्ष 31 अगस्त से पहले परीक्षा आयोजित नहीं की जाएगी। छात्रों को परीक्षा आयोजित करने से पहले कम से कम एक महीने का समय दिया जाएगा।

प्रधानमंत्री कार्यालय के एक बयान में कहा गया है, यह कोविड कर्तव्यों के लिए बड़ी संख्या में योग्य डॉक्टरों को उपलब्ध कराएगा।

अंतिम वर्ष के एमबीबीएस छात्रों की सेवाओं का उपयोग टेली-परामर्श और हल्के कोविड मामलों की निगरानी और संकाय की देखरेख में उचित दिशानिर्देश के बाद सेवाएं प्रदान करने के लिए किया जा सकता है। इससे कोविड की ड्यूटी में लगे मौजूदा डॉक्टरों पर काम का बोझ कम हो जाएगा।

बयान में कहा गया है कि अंतिम वर्ष के स्नातकोत्तर छात्रों (व्यापक और साथ ही अति विशिष्टताओं) की सेवाओं का उपयोग तब तक किया जा सकता है, जब तक कि पीजी छात्रों के नए बैच शामिल नहीं हो जाते।

बीएससी या जीएनएम योग्य नर्सों का उपयोग वरिष्ठ डॉक्टरों और नर्सों की देखरेख में पूर्णकालिक कोविड नर्सिग कर्तव्यों में किया जा सकता है।

बयान में कहा गया है कि कोविड प्रबंधन में सेवाएं प्रदान करने वाले व्यक्तियों को नियमित सरकारी भर्तियों को पूरा करने में प्राथमिकता दी जाएगी, क्योंकि वे कोविड की ड्यूटी के न्यूनतम 100 दिन पूरे करने के बाद कोविड से संबंधित काम में लगे रहने वाले मेडिकल छात्रों या पेशेवरों के लिए उपयुक्त होगा इस तरह लगे टीके और सभी स्वास्थ्य पेशेवरों को कोविड-19 से लड़ने में लगे स्वास्थ्य कर्मचारियों के लिए सरकार की बीमा योजना के तहत कवर किया जाएगा।

ऐसे सभी पेशेवर जो कोविड के न्यूनतम 100 दिनों के लिए साइन अप करते हैं और इसे सफलतापूर्वक पूरा करते हैं, उन्हें प्रधानमंत्री का प्रतिष्ठित 'कोविड राष्ट्रीय सेवा सम्मान' भी दिया जाएगा।

यह देखते हुए कि डॉक्टर, नर्स और संबद्ध पेशेवर कोविड प्रबंधन की रीढ़ हैं और फ्रंटलाइन वर्कर्स भी हैं, पीएम ने उल्लेख किया कि रोगियों की आवश्यकताओं को अच्छी तरह से संबोधित करने के लिए पर्याप्त ताकत में उनकी उपस्थिति महत्वपूर्ण है। (आईएएनएस)

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे